RBI क्या हैं? RBI से जुड़े 7 रोचक तथ्य

दोस्तों, RBI से आप जरूर अवगत होंगे। परन्तु क्या आप जानते हैं की RBI क्या हैं, RBI का गर्वनर कौन हैं। आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से जानेंगे RBI की सम्पूर्ण जानकारी और इससे जुडी रोचक जानकारी। ये आर्टिकल आपको RBI Grade B , RBI Assistant और अन्य परीक्षाओं में भी सहायक होगा।

RBI क्या हैं? What is RBI

RBI की फुल फॉर्म हैं Reserve Bank of India या भारतीय रिज़र्व बैंक। भारत में सभी निजी और सार्वजनिक बैंको की नियंत्रणकारी संस्था RBI ही हैं। इसलिए RBI को “बैंको का बैंक” भी कहा जाता हैं।

RBI को केंद्रीय बैंक या Central Bank भी कहा जाता हैं।

RBI की स्थापना कब हुई?

RBI की स्थापना 1 अप्रैल – 1935 में कलकत्ता में हुई थी। RBI की स्थापना, RBI एक्ट 1934 के द्वारा हुई थी। इसलिए यह एक वैधानिक संस्था (Statuary Body) हैं। वैधानिक संस्था वह होती हैं जो किसी कानून के द्वारा बनी हो। दोस्तों RBI का पुराना नाम “The Imperial Bank of India” था।

Reserve Bank of India से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण तथ्य

आरबीआई का मुख्य ऑफिस प्रारंभ में कोलकाता में स्थापित किया गया था परंतु बाद में 1937 में इसे स्थाई रूप से मुंबई स्थानांतरित कर दिया गया।

RBI की स्थापना किसने की थी?

दोस्तों प्रारंभ में निजी स्वामित्व के अधीन RBI की स्थापना ब्रिटिश भारत सरकार द्वारा की गई थी। इसके बाद 1 जनवरी 1949 को RBI का राष्ट्रीयकरण कर दिया गया। जिससे वह निजी हाथों से भारत सरकार के अधीन आ गया।

RBI कहां है या RBI के ऑफिस

RBI का मुख्य हेड क्वार्टर मुंबई में स्थित हैं। आरबीआई के कुल 4 लॉकल बोर्ड हैं –  दिल्ली, मुंबई, चेन्नई, और कोलकाता।

साथ ही रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया के 20 रीजनल ऑफिस हैं एवं 11 सब ऑफिस है।

RBI के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स

भारतीय रिज़र्व बैंक का सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स कुल 21 व्यक्तियों से मिलकर बना होता है।

क्या आप जानते है की वर्तमान में RBI के गवर्नर शशिकांत दास हैं। RBI Governor शशिकांत दास, जिन्होंने उर्जित पटेल का स्थान लिया हैं।

RBI के डिप्टी गवर्नर

वर्तमान में RBI के 4 Deputy Governors हैं।

RBI Deputy Governors
1. श्री बी. पी कानूनगो 2. श्री एम. के जैन 3. श्री एम. डी पात्रा 4. श्री एम. राजेश्वर राव

बोर्ड ऑफ़ डायरेक्टर्स में लोकल बोर्ड्स से 4 व्यक्ति होते हैं जबकि 2 व्यक्ति वित्त मंत्रालय (Finance ministry) से होते हैं। 10 व्यक्ति भारत सरकार द्वारा विभिन्न क्षेत्रों से नियुक्त किए जाते हैं।

RBI के उद्देश्य

RBI का मुख्य उद्देश्य भारत में वित्तीय क्षेत्र की निगरानी करना है, जो व्यापारिक बैंकों, वित्तीय संस्थानों और गैर-बैंकिंग वित्त फर्मों (NBFC) से मिलकर बना है। भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा अपनाई गई पहल में बैंक निरीक्षण का पुनर्गठन, बैंकों और वित्तीय संस्थानों की ऑफ-साइट निगरानी करना और प्रवक्ता की भूमिका को मजबूत करना है।

RBI के कार्य (Functions of RBI)

रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया केंद्रीय बैंक होने की वजह से भारतीय अर्थव्यवस्था की मुख्य धुरी होता है। भारतीय रिज़र्व बैंक भारत की अर्थव्यवस्था की चुनौतियों से निपटने, मूल्य की स्थिरता बनाए हुए विकास के उद्देश्य से कार्य करता है।

rbi, rbi governor

नोट जारी करना

RBI का प्रमुख कार्य नोट जारी करना होता है। इसके साथ ही रिज़र्व बैंक, जो मुद्रा बाजार में परिसंचरण योग्य नहीं रहती उसको नष्ट करने का कार्य भी करता है।

क्या आप जानते हैं ₹1 का सिक्का और नोट भारत सरकार द्वारा जारी किया जाता है, जिस पर फाइनेंस सेक्रेटरी के हस्ताक्षर होते हैं। भारतीय रिज़र्व बैंक ₹2 एवं उससे ज्यादा की मुद्रा जारी करता है जिस पर RBI गवर्नर के हस्ताक्षर होते हैं। आरबीआई एक्ट 1934 के अंतर्गत आरबीआई अधिकतम ₹10,000 के बैंक नोट जारी कर सकता है।

दोस्तों क्या आपको पता है नोट कहां छपते हैं? भारत में 4 जगह नोट छपते हैं।

जगह  किसके अधीन कार्य करते हैं?
मैसूर (कर्नाटक) Reserve Bank of India
सालबोनी (पश्चिम बंगाल) Reserve Bank of India
देवास (मध्य प्रदेश) Govt. of India
नासिक (महाराष्ट्र) Govt. of India

मौद्रिक नीति बनाना

केंद्रीय बैंक या रिज़र्व बैंक द्वारा मौद्रिक नीति का निर्माण किया जाता है। इसमें RBI द्वारा मुद्रा और ऋण की उपलब्धता, उसकी लागत एवं उपयोग को नियंत्रण करना है। मौद्रिक नीति का उद्देश्य स्थिर मुद्रास्फीति रखना, विकास को बढ़ावा देना एवं विशिष्ट आर्थिक लक्ष्यों को हासिल करना है।

सरकार का बैंक

  • रिज़र्व बैंक राज्य और केंद्र सरकार के लिए बैंकिंग कार्य करता है।
  • RBI मौद्रिक नीति के मुद्दों पर सरकार को सलाह देता है।
  • इसके अतिरिक्त यह सरकार के सार्वजनिक ऋण (पब्लिक डेट) का प्रबंधन भी करता है।
  • रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया  सरकार के जमा खातों का रखरखाव और संचालन करता है।
  • सरकार की ओर से धन प्राप्ति करता है और सरकार की ओर से भुगतान भी करता है।
  • रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया IMF और विश्व बैंक के सदस्य के रूप में भारत सरकार का प्रतिनिधित्व करता है।

बैंकों का बैंक

RBI को बैंकों का बैंक भी कहा जाता हैं। बैंकों का बैंक इसलिए कहा जाता है क्योंकि यह वाणिज्यिक बैंकों के लिए वही कार्य करता है जो बैंक अपने ग्राहकों के लिए करते हैं।

बैंको के वित्तीय आपातकाल की स्थिति में सेंट्रल बैंक ही अंतिम ऋण दाता होता है। इस प्रकार आरबीआई कमर्शियल बैंकों को ऋण देकर उन्हें उबारने का कार्य करता है। ये नए बैंको को लाइसेंस भी प्रदान करता हैं।

विदेशी मुद्रा भंडार का कस्टोडियन

आरबीआई के पास भारत की विदेशी मुद्रा की कस्टडी रहती है। यह भुगतान असंतुलन की स्थिति में आवश्यक कदम उठाता है। केंद्रीय बैंक के रूप में RBI विदेशी मुद्रा दरों को स्थिर बनाए रखने के लिए विदेशी मुद्रा खरीदता एवं बेचता है।

क्रेडिट रेगुलेशन

RBI के प्रमुख कार्य में देश की वित्तीय प्रणाली में धन के प्रवाह को नियंत्रित करना होता है। यह मुद्रास्फीति (inflation) को नियंत्रण में लाने के लिए आवश्यक नीतिगत फैसले लेता है।

देश के विकास में भूमिका

आरबीआई बैंक, सरकार के सहयोगी के रूप में देश के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

बैंको की डिपॉजिट रखना

सभी वाणिज्यिक बैंकों को एक निश्चित प्रतिशत के रूप में रिजर्व, भारतीय रिज़र्व बैंक के पास रखने होते हैं। यह वाणिज्यिक बैंको पर नियंत्रण का एक तरीका हैं। इस प्रकार केंद्रीय बैंक वाणिज्यिक बैंकों के नकदी भंडार के संरक्षक के रूप में कार्य करता है।

RBI से जुडी रोचक जानकारी – 7 Interesting facts about RBI

आइये जानते है RBI से जुड़े कुछ रोचक तथ्य –

  • आरबीआई पहले दो अन्य देशों के लिए भी सेंट्रल बैंक रह चुका है। यह पाकिस्तान का सेंट्रल बैंक जून 1948 तक और बर्मा (म्यांमार) का अप्रैल- 1947 तक रह चुका हैं।
  • मनमोहन सिंह एकमात्र ऐसे भारत के प्रधानमंत्री थे जो भारत के भूतपूर्व RBI गवर्नर भी रह चुके हैं। आरबीआई Logo ईस्ट इंडिया कंपनी की डबल मोहर से प्रेरित होकर बनाया गया है।
  • RBI का Financial year (वित्त वर्ष) 1 जुलाई से 30 जून तक चलता है। जबकि भारत का वित्त वर्ष 1 अप्रैल से 31 मार्च तक चलता हैं।
  • अंग्रेजी सरकार होने के कारण RBI के पहले गवर्नर भारतीय नहीं थे। तीसरे गर्वनर के रूप में श्री सी. डी देशमुख पहले भारतीय गर्वनर बने थे।
  • रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया द्वारा केवल करंसी नोट्स की छपाई की जाती है। सिक्के अभी भी भारत सरकार द्वारा बनाए जाते हैं।
  • आपको जानकर आश्चर्य होगा कि अब तक कोई भी महिला आरबीआई गवर्नर नहीं बनी है। परंतु श्रीमती के. जे उदेशी 2003 में केंद्रीय बैंक की प्रथम डिप्टी गवर्नर चुनी गई थी।
  • RBI  के इतिहास में श्री के. जी. आंबेगांवकर और सर आस्बर्न स्मिथ ऐसे गवर्नर रहे, जिन्होंने कभी भी नोटों पर हस्ताक्षर नहीं किए थे। सर आस्बर्न स्मिथ 1935 में RBI के प्रथम गवर्नर बने थे।

ये भी पढ़े – भारतीय तिरंगे का इतिहास और रोचक तथ्य 

भारतीय रिज़र्व बैंक निम्न अधिनियमों के दायरे में आता है –

  • Reserve Bank of India Act- 1934
  • Government Securities Regulations- 2007
  • Public Debt Act- 1944
  • Foreign Exchange Management Act- 1999
  • Banking Regulation Act- 1949
  • Securitization & Reconstruction of Financial Assets and Enforcement of Security Interest Act- 2002
  • Credit Information Companies (Regulation) Act- 2005
  • Payment and Settlement Systems Act- 2007

ये भी पढ़े – सुकन्या समृद्धि योजना – आपकी बेटी का उज्जवल भविष्य

दोस्तों, इस आर्टिकल के माध्यम से आपने समझा की RBI क्या हैं , RBI Functions . अगर आपके कोई भी सवाल या सुझाव है तो हमें नीचे कमेंट बॉक्स के माध्यम से बता सकते हैं।

Leave a Reply

Say हिंदी