क्या है राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी (National Recruitment Agency)

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी के गठन को मंजूरी दे दी है। राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी एक स्वतंत्र निकाय होगा जो सरकारी भर्तियों के लिए प्रारंभिक परीक्षा का आयोजन करेगा। यहां हम आज समझेंगे कि राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी और सेट क्या है?

क्या है राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी ,NRA (National Recruitment Agency)

वर्तमान में राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी का गठन तीन प्रमुख भर्ती संस्थानों की प्रारंभिक परीक्षा करवाने के उद्देश्य से किया गया है। यह IBPS, रेलवे (RRB) एवं कर्मचारी चयन आयोग (SSC) की परीक्षाओं की प्रारंभिक परीक्षा के आयोजन के लिए गठित किया गया है। राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी का मुख्य कार्य इन तीनों संस्थानो के लिए प्रारंभिक परीक्षा का आयोजन करना होगा।

आप राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी को IBPS के गठन के माध्यम से समझ सकते हैं जिस प्रकार IBPS का गठन समस्त बैंकों की सामूहिक परीक्षा लेने के लिए किया गया था उसी प्रकार राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी का गठन किया गया है। राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी(NRA) अपनी परीक्षा समान योग्यता परीक्षा (CET) के माध्यम से लेगी।

राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी के लिए किए गए प्रावधान

NRA के संदर्भ में निम्न प्रावधान किए गए हैं-

  • विभिन्न प्रकार की परीक्षा में शामिल होने के लिए मात्र एक प्रारंभिक परीक्षा देनी होगी।
  • CET के माध्यम से राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी 1 वर्ष में दो परीक्षाएं आयोजित करेगा।
  • NRA ग्रुप बी एवं सी के नॉन टेक्निकल पदों या अराजपत्रित पदों के लिए सेट का आयोजन करेगा। प्रत्येक जिले में परीक्षा केंद्र स्थापित करने करने का लक्ष्य रखा गया है जहां देश भर में 1000 परीक्षा केंद्र स्थापित करने का प्रावधान किया गया है जबकि 117 परीक्षा केंद्रों को उत्कृष्ट करने का लक्ष्य रखा गया है।
  • सेट में पास होने के पश्चात स्कोरकार्ड तीन वर्ष तक मान्य होगा।
  • सेट परीक्षा ऑनलाइन माध्यम से ली जाएगी। सेट की परीक्षा में भाग लेने के अवसरों की कोई सीमा नहीं रखी गई है एवं ऊपरी आयु सीमा का कोई प्रावधान नहीं रखा गया है।
  • सेट एग्जाम 12 भाषाओं में करवाए जाने का फैसला किया गया है। इससे पहले केंद्र सरकार की परीक्षाओं में मात्र हिंदी एवं अंग्रेजी भाषा का विकल्प होता था। यह प्रतियोगी परीक्षाओं में किया गया एक बड़ा बदलाव हैं।
  • परीक्षा के लिए एक कॉमन पंजीकरण होगा एवं एक ही बार शुल्क अदा करना होगा। सेट एग्जाम बहु वैकल्पिक प्रश्नों पर आधारित होगा। अपने स्कोर में सुधार करने के लिए प्रतिभागी दोबारा भी सेट के एग्जाम में बैठकर अपने स्कोरकार्ड को सुधार सकता है।
  • SC/ST/OBC एवं अन्य कैटेगरी के विद्यार्थियों को पॉलिसी के अनुसार उम्र में छूट भी मिलेगी।

ये भी पढ़े- क्या है नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन

क्या है सेट (CET) परीक्षा

भारत में लगभग 2.5 से तीन करोड़ युवा हर साल सरकारी नौकरी प्राप्त करने का प्रयास करते हैं। उनकी समस्याओं को समाधान करने के लिए राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी के द्वारा सेट की परीक्षा लाई गई है।

सेट एग्जाम के माध्यम से रेलवे, बैंक एवं SSC के पदों के लिए स्क्रीनिंग या प्रारंभिक परीक्षा आयोजित की जाएगी। सेट एग्जाम ऑनलाइन होगा जिसमें 10वीं, 12वीं एवं स्नातक पास युवा परीक्षा दे सकेंगे। सेट 10वीं, 12वीं एवं स्नातक स्तर पर अलग-अलग परीक्षाएं आयोजित करेगा। मुख्य परीक्षा एवं अगले चरण की परीक्षा आयोजित करवाने के लिए IBPS, RRB, SSC जैसी संस्थाएं यथावत रहेगी।

NRA के बारे में

राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी सोसायटी पंजीकरण अधिनियम 1860 के अंतर्गत पंजीकृत होगी। इसकी अध्यक्षता भारत सरकार में सचिव पद की रैंक के व्यक्ति द्वारा की जाएगी। इसके प्रतिनिधियों में रेल मंत्रालय, RRB, वित्त मंत्रालय, कर्मचारी चयन आयोग एवं IBPS के सदस्य शामिल होंगे। इस संस्था का मुख्य उद्देश्य प्रतियोगी परीक्षाओं में अत्याधुनिकता एवं सर्वोत्तमता लाना होगा।

rastiya bharti agency, national recruitment agency

राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी(NRA) से क्या फायदा होगा

पहले छात्रों को IBPS, SSC एवं रेलवे में नई भर्ती निकलने पर हर बार परीक्षा देनी होती थी। 3 साल के भीतर तो एक छात्र ना जाने कितनी ही बार आवेदन करके कितनी ही परीक्षाएं दे चुका होता है। जिसमें सिर्फ एक परीक्षा में बैठने के लिए 200 से लेकर ₹1000 रुपये तक का शुल्क देना पड़ता था। लेकिन NRA के आने के पश्चात छात्रों को बार बार परीक्षा देने की समस्या से निजात मिलेगी एवं परीक्षा शुल्क के बोझ में कमी आएगी।

छात्रों को पहले कई बार अपनी परीक्षा देने के लिए दूसरे जिले में जाना होता था। इससे उनके ऊपर वित्तीय बोझ पड़ता था एवं सुरक्षा का खतरा भी रहता था। राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी के द्वारा सभी जिलों में परीक्षा करवाने का फैसला लिया गया। जिसमें छात्रों को खासतौर पर महिला उम्मीदवारों को अत्यधिक फायदा होगा।

उम्मीदवारों को एक ही स्तर की परीक्षा के लिए पहले अलग-अलग परीक्षाएं देनी होती थी जो काफी सुविधाजनक होता था। NRA के अंतर्गत छात्रों को अलग-अलग पाठ्यक्रम पढ़ने की आवश्यकता नहीं होगी। अब इन तीनों संस्थाओं की प्रारंभिक परीक्षा के लिए मात्र एक पाठ्यक्रम होगा।

छात्रों को पुरानी व्यवस्था के तहत कई अन्य समस्याओं से रूबरू होना पड़ता था। एक ही तिथि पर एक से अधिक संस्थानों की परीक्षा का आयोजित होना, छात्रों की उम्र निकल जाने की समस्या, परीक्षा का समय से ना होना आदि से काफी हद तक निजात मिलेगी।

पुरानी व्यवस्था में कई बार परिणाम आने में बहुत लंबा समय निकल जाता था हालांकि अब परिणाम बहुत जल्दी मिल जाएगा।

सेट भर्ती  की अवधि को भी कम करने में मददगार होगा। प्रारंभिक परीक्षा मुख्य संस्थानों द्वारा नहीं करवाए जाने पर वे दूसरे एवं तीसरे चरण पर अधिक ध्यान केंद्रित कर पाएंगे। फलस्वरूप भर्ती तय सीमा में पूरी हो पाएगी।

निष्कर्ष

सरकार के द्वारा राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी का गठन प्रतियोगिता परीक्षाओं के ढांचे में किया गया मुख्य सुधार दिखाई दे रहा है। NRA के अंतर्गत सरकार द्वारा 1517.57 करोड आवंटित किए गए हैं जिन्हें अगले 3 वर्ष में परीक्षा केंद्र इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार करने में लगाए जाएंगे। 

राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी के अंतर्गत सरकार के मुख्य उद्देश्य के अन्तर्गत ग्रामीण एवं दूर-दराज के उम्मीदवारों को ऑनलाइन परीक्षा प्रणाली से रूबरू करवा कर जागरूकता प्रदान करना है। 

आने वाले समय में राज्य सेवा आयोग, PSU एवं प्राइवेट कंपनियां भी सेट स्कोरकार्ड के माध्यम से भर्ती कर सकती है क्योंकि प्रारंभिक परीक्षा के माध्यम से विद्यार्थियों की स्क्रीनिंग हो चुकी होगी। जिससे यहां एक पुल ऑफ टैलेंट का निर्माण हो जाएगा। यहां इन संस्थानों को फिर से प्रारंभिक परीक्षा का आयोजन नहीं करना होगा। राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी का गठन  एक ऐसा सुधार है जो शायद बहुत समय पहले हो जाना चाहिए था परंतु देर आए दुरुस्त आए।

दोस्तों आप राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी के सेट एग्जाम के ऊपर अपनी राय नीचे कमेंट बॉक्स में बता सकते हैं। धन्यवाद!

Leave a Reply